83 वर्षीय मानवाधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी की अवैध गिरफ्तारी के संबंध में HRD Alert-India की अपील…

0
10

रिपोर्ट- ताजा खबर झारखंड ब्यूरो…

रांचीः HRD Alert-India  मानवाधिकार रक्षकों का एक मंच है। यह मानवाधिकार की रक्षा करने वाले लोगों की सुरक्षा के लिए कार्य करता है। HRD Alert-India ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर मानवाधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी की एनआईए द्वारा की गई गिरफ्तारी को पूरी तरह अवैध ठहराया है। HRD Alert-India  ने इस गिरफ्तारी पर कई सवाल खड़े किए हैं।

बिना वारंट के NIA के अधिकारी फादर स्टेन को मुंबई ले जाना चाहते हैः

8 अक्टूबर, 2020 की रात एनआईए के अधिकारी राजधानी रांची के नामकुम प्रखंड स्थित बगईचा उनके कार्यस्थल पर पहुंचे और बिना वारंट दिखाए उन्हें रांची स्थित एनआईए कार्यालय ले गएं। इस दौरान गिरफ्तारी प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया, उन्हें जबरदस्ती उठा कर ले जाया गया।

फादर स्टेन को मुंबई ले जाने का दबाव डाला जा रहा हैः

एनआईए के अधिकारी रांची कार्यालय में पुछताछ के लिए उन्हें मुंबई ले जाने का दबाव डाल रहे हैं, जबकि फादर स्टेन स्वामी से 5 दिनों की अवधि (27 जुलाई, 28, 29, 30 और 6 अगस्त, 2020) के दौरान 15 घंटे से अधीक पुछताछ की जा चुकी है।

एनआईए ने माओवादियों से संबंध होने का सबुत फादर स्टेन के सामने रखा था, लेकिन फा. स्टेन कर चुके थें खारिजः

फादर स्टेन स्वामी का जीवनी विवरण के अलावा कई तथ्यात्मक जानकारी एनआईए ने उनके कंप्यूटर से प्राप्त होने का हवाला दिया था, साथ ही माओवादियों के साथ संबंध होने की भी जानकारी कंप्यूटर से ही प्राप्त होने की बात कही थी, लेकिन फादर स्टेन स्वामी ने एनआईए के सभी आरोपों को खारीज करते हुए कह चुके हैं कि, जो भी सबूत मेरे कंप्यूटर से प्राप्त होने की बात कही जा रही है, वे सभी फाईल चुपके से मेरे कंप्यूटर में कॉपी किया गया है मुझे फंसाने के लिए।

अंतिम बार 6 अगस्त को फादर स्टेन स्वामी के साथ हुई थी पुछताछः

फादर स्टेन स्वामी से एनआईए की टीम ने अंतिम बार 6 अगस्त 2020 को पुछताछ की थी। इसके बाद 6 अक्टूबर को उन्हें एनआईए मुम्बई द्वारा फोन कर मुम्बई कार्यालय में उपस्थित होने के लिए कहा था, जिसके बाद फादर स्टेन स्वामी द्वारा उन्हें बताया गया की अधिक उम्र(83 वर्ष) और कोविड-19 के कारन अधिक उम्र के लोगों को यात्रा नहीं करने की चेतावनी के कारन मैं मुम्बई आने में असमर्थ हूं। मुझ से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पुछताछ किया जा सकता है। जिसके बाद स्टेन स्वामी से एनआईए के इंस्पेक्टर ने कहा कि आप अपना लिखित जवाब तैयार रखें, मेरे लोग आकर आपसे ले लेंगे। लेकिन एनआईए द्वारा ऐसा नही किया।   

फादर स्टेन स्वामी के बगैचा स्थित कार्यस्थल में प्रथम बार छापेमारी करती महाराष्ट्र पुलिस की टीम.

वर्तमान एनआईए की जांच में भीमा कोरेगांव से कोई संबंध नहीः

एचआरडीए का मानना है कि भीमा कोरेगांव मामले में फादर स्टेन स्वामी को संदिग्ध रुप से पेश किया गया है, और इसी संदेह के आधार पर रांची स्थित फादर स्टेन के कार्य स्थल पर छापेमारी की गई थी। लेकिन भीमा कोरेगांव मामले में कोई सबूत नहीं मिलने के बाद उन्हें फंसाने के लिए माओवादियों के साथ संबंध होना जोड़ा जा रहा है। लेकिन फादर स्टेन एनआईए के इस आरोप को भी खारीज कर चुके हैं।

HRD Alert-India  की आयोग से अपीलः

HRD Alert-India ने माननीय आयोग से तत्काल एनआईए को निर्देश देने का आग्रह करते हैं, कि यदि उससे और पूछताछ की जानी है, तो उसे हिरासत में पूछताछ नहीं करनी चाहिए और उसे मुंबई की यात्रा करने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए, जो निश्चित रूप से फादर स्टेन स्वामी के जीवन को खतरे में डाल देगा। HRD Alert-India  माननीय आयोग का ध्यान इस देश के प्रमुख HRDs के खिलाफ आतंकी विधानों के दुरुपयोग पर भी दिलाना चाहते हैं। HRD Alert-India एनएचआरसी से आग्रह करती है कि वह निश्चित उपाय करे और उपयुक्त अदालत के समक्ष, इन HRD(Human Rights Degenders) को जमानत पर रिहा करने का आग्रह करे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.